फुर्सत के पल शायरी

इस पेज पर आप फुर्सत के पल शायरी पड़ेगें जिसमें आपको बेहतरीन फोटो मिल जाएगी जिसे आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं।

पिछले पेज पर हमने Deewana Shayari शेयर की हैं आप उसे पढ़कर अपने पार्टनर को सुनाकर इम्प्रेस कर सकते हैं।

चलिए इस पेज पर फुर्सत के पल पर शायरी पढ़िए और अपने परिजनों को सुनाकर दिल खुश कीजिए।

फुर्सत के पल शायरी

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

उन्हें फुर्सत नहीं हमारे लिए,
चलो दीवारों से बात करते हैं।।

Kuch Fursat Ke Pal Images

तुम्हे फुर्सत नहीं अपनी महफ़िल से
और हम तुम्हे हर-पल याद करते हैं।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

खुदा ने बड़ी फुर्सत से बनाया हैं तुम्हे
तभी तो आज तक कोई तुमसा नहीं देखा।।

Kuch Fursat Ke Pal Quotes

आज सुबह से ही हिचकिया आ रही हैं,
लगता हैं आज उन्हें फुर्सत मिल ही गयी, मुझे याद करने की।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

लगता हैं उन्हें अब फुर्सत नहीं मिलती
मुझे याद करने की
तभी तो अब हिचकिया आती नहीं।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

चलो छत से ही सही,
मेरे जनाजे को देखने की फुर्सत उन्हें मिली।।

Kuch Fursat Ke Pal Images

मुझे दिल से भुलाने वाले,
कभी फुर्सत से बैठना फिर सोचना, मेरा कसूर क्या था?

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

बड़ी फुर्सत से बैठे हैं आज
तेरी यादों के ख़ज़ाने को लेकर
इन्हे देख कर ऑंखें छलक आयी तो मैं क्या करू?

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

बड़ी फुर्सत में रहती हो तुम
चली आती हो दिन-रात यादो में।।

Fursat Ke Pal Shayari

बड़ी फुर्सत से कमरे की तन्हाईयों में बैठे रहते हैं,
पता हैं क्यू? तुम्हे याद करने के लिए।।

Kuch Fursat Ke Pal ShayariKuch Fursat Ke Pal

खत्म कर दी थी जिन्दगी की हर खुशियाँ तुम पर,
कभी फुर्सत मिले तो सोचना मोहब्बत किस ने की थी।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

मंजिल पे पहुँचकर लिखूंगा मैं इन रास्तों की मुश्किलों।।
का जिक्र अभी तो बस आगे बढ़ने से ही फुरसत नही।।

Kuch Fursat Ke Pal Images

हमें फुरसत नहीं मिलती कभी आंसू बहाने से
कई ग़म पास आ बैठे तेरे एक दूर जाने से।।

Kuch Fursat Ke Pal Quotes

जब हो थोड़ी फुरसत, तो अपने मन की बात हमसे कह लेना,
बहुत खामोश रिश्ते कभी जिंदा नहीं रहते।।

Fursat Ke Pal Photos

मुझे तेरे सिवा कुछ सोचने की फुरसत नहीं,
ओर तुम कहते हो में तुम्हें भूल जाऊँ।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

गुज़र गया आज का दिन पहले की तरह,
ना हम को फुर्सत मिली ना उनको ख्याल आया।।

फुर्सत के पल शायरी

तेरे पास भी काम नहीं, मेरे पास भी बहुत हैं,
ये परेशानियाँ आजकल फुर्सत में बहुत हैं।।

कुछ फुर्सत के लम्हे शायरी

तुम्हे गेरौ से कब फुरसत, हम अपने ग़म से कब खाली।।
चलो बहुत हो गया मिलना, ना तुम खाली ना हम खाली।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

तुम ताल्लुक तोड़ने का जिक्र किसी से भी ना करना,
हम लोगों से कह देंगे कि उन्हें फुर्सत नहीं मिलती।।

लम्हे कुछ फुर्सत के

मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो।।
वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते है।।

फुर्सत के लम्हे शायरी

कभी मिले तुम्हे फुर्सत तो इतना जरुर बताना,
वो कौन सी? मौहब्बत थी हम तुम्हे दे ना सके।

सुकून के पल शायरी

फुरसत मिले तो चाँद से मेरे दर्द की कहानी पुछ लेना,
एक वही तो है हमराज मेरा तेरे सो जाने के बाद।

सुकून के पल शायरी

तुम्हें जब कभी मिले फ़ुरसतें मेरे दिल से बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो।।

फुर्सत के कुछ पल

फुर्सत अगर मिलें तो मुझे पढ़ना जरूर,
मैं तेरी उलझनों का मुकम्मल जवाब हूँ।।

फुर्सत के कुछ पल कोट्स

मसरुफ रहने का अंदाज आपको तन्हा ना कर दे,
रिश्ते फुरसत के नही, तवज्जो के मोहताज़ होते हैं।।

फुर्सत के कुछ पल थॉट्स

कमाल करता है ऐ दिल तू भी,
उसे फुरसत नहीं और तुझे चैन नहीं।।

फुर्सत के पल शायरी

फुर्सत में ही याद कर लिया करो हमें,
दो पल मांगते है पूरी जिंदगी तो नहीं।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

उनको तो फुरसत नहीं,
दीवारो तुम ही बात कर लो मुझसे।।

kuch Fursat ke Pal Shayari

तमाम लोगों का हाल जाना तमाम लोगों से बात की,
कभी फुर्सत ही न मिल सकी खुद से मुलाकात की।।

Fursat ke Pal Shayari

तेज रफ़्तार ज़माने में फुरसत में बड़े हैं लोग,
मेरी बातें करते हुए चौराहों पर खड़े हैं लोग।।

kuch Fursat ke Pal Shayari

मिल जाए उलझनों से फुर्सत तो जरा सोचना,
क्या सिर्फ फुरसतों मे याद करने तक का रिश्ता है हमसे।।

फुर्सत के पल शायरी

दिल ने आज फिर तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,
अगर फुरसत मिले तो ख्वाबों मे आ जाना।।

फुर्सत के पल शायरी

अधूरे मिलन की आस हैं जिंदगी,
सुख-दुःख का एहसास हैं जिंदगी,

कुछ फुर्सत के लम्हे शायरी

फुरसत मिले तो ख्वाबो में आया करो,
तुम्हारे बिना बड़ी उदास हैं जिंदगी।।

लम्हे कुछ फुर्सत के

खुद से मिलने की भी फुरसत नहीं है अब मुझे,
और वो औरो से मिलने का इल्ज़ाम लगा रहे है।

फुर्सत के लम्हे शायरी

अभी मसरूफ हूँ काफी कभी फुर्सत में सोचूंगा,
कि तुझको याद रखने में, मैं क्या-क्या भूल जाता हूँ।।

सुकून के पल शायरी

ये जो चंद फुर्सत के लम्हे मिलते हैं जीने के लिए,
मैं उन्हें भी तुम्हे सोचते हुए ही खर्च कर देता हूँ।।

फुर्सत के कुछ पल थॉट्स

पतझड़ को भी तू फुर्सत से देखा कर ऐ दिल,
बिखरे हुए हर पत्ते की अपनी अलग कहानी है।।

फुर्सत के कुछ पल कोट्स

नहीं फुर्सत यक़ीन मानो हमें कुछ और करने की,
तेरी यादें, तेरी बातें, बहुत मशरूफ रखती हैं।।

फुर्सत के कुछ पल

काश उनको कभी फुर्सत में ये ख्याल आए,
कि कोई याद करता है, उन्हें जिन्दगी समझ कर।।

सुकून के पल शायरी

हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले,
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना।।

फुर्सत के लम्हे शायरी

फुर्सत मिले तो उन का हाल भी पूछ लिया करो,
जिन के सीने में दिल की जगह तुम धड़कते हों।।

फुर्सत के लम्हे शायरी

फुर्सत मिले तो कभी हमें भी याद कर लेना फ़राज़,
बड़ी पुर रौनक होती हैं यादें हम फकीरों की।।

लम्हे कुछ फुर्सत के

Attitude की चमक और मिर्ची की जलन
क्या होती है सब दिखा देंगे
फिलहाल फुर्सत नहीं है
फुर्सत मिली तो तेरी औकात भी दिखा देंगे।।

कुछ फुर्सत के लम्हे शायरी

मंहगीं तो फुर्सत है जनाब सुकुन तो आज भी सस्ता है,
चाय की प्याली में भी मिल जाता है।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

फुर्सत निकाल कर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त दिल नहीं पाओगे अपने सीने में।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

काश उसको भी कभी फुर्सत मे ये ख्याल आ जाये कि,
कोई याद करता है उसे जिन्दगी समझकर।।

 Fursat Ke Pal Shayari

फुर्सत मिले तो उनका भी हाल पूछ लिया करो,
जिनके सीने में दिल की जगह तुम धड़कते हो।।

Kuch Fursat Ke Pal Shayari

फुर्सत मिले तो आना कभी दिल की गलियों तक
हम धड़कनों में अपनी तुम्हारा नाम सुनाएंगे।।

जरूर पढ़ें :

उम्मीद हैं आपको फुर्सत के पल शायरी पसंद आयी होंगी।

यदि आपको फुर्सत के पल शायरी पसंद आयी हो तो सोशल मीडिया पर शेयर जरूर कीजिए।